Wednesday, 22 March 2017

राव सांगा राठौड़ बीदासर (1529-1544)

राव सांगा राठौड़ बीदासर (1529-1544)



राव सांगा बीदासर, राजपुताना की सयुक्त सेनाओ (allied forces) के सर्वोच्च कमांडर थे जिनकी भुजाओं पर मुगल बादशाह बाबर के पुत्र एवं लाहौर के सुल्तान कामरान द्वारा 1534 ई. में बीकानेर पर हुए आक्रमण का सामना करने का भार था !

छंद राव जैतसी रो (1534-1541 ई.) के छंद 239 का राव सांगा के लिए ऐसा लिखा है- 

ग्वालेर ठवई पई पात गती 
उन्हउ ऊछेह ऊछलइ अति 
सांगलउ चडिय करि सहि सार 
भारत्थ तणउ जई भुज्जी भार !!

Gwaler would walk with a graceful air like the movement of a leaf floating in the air but this very hot-headed horse used to jump continuously, Sanga the supreme commander of the Allied Forces, on whose shoulders lay the whole burden of this battle, mounted this charger.

राजपुताना के निम्नलिखीत स्थानों के राजपूत योद्धा देश रक्षा के लिए बीकानेर आकर लड़े थे !
जैसलमेर, आमेर अमरसर, सिरोही, आबू, सांचौर, बिदासर, पूंगल, अजमेर, बूँदी, अमरकोट, सिंध, जालौर, खेड़-मारवाड़, पाली-मारवाड़ के सिरवो !

संदर्भ- छंद राव जैतसी रो अनुवाद 

No comments

Post a comment