Friday, 21 October 2016

मार्गदर्शक महाराजा सर प्रताप

मार्गदर्शक महाराजा सर प्रताप

राजपूत समाज में समकालीन परिस्थितियों को देखकर भविष्य कि पहचान अगर किसी ने वक्त रहते हुवे कि और समाज को शिक्षा के क्षेत्र में पिछङने से बचाने का श्रेय जाता है तो वह जोधपुर रियासत के प्रधानमंत्री सर प्रताप को जाता है ।।
अंग्रेजों के जाने के बाद जो कांग्रेस वामपंथीयो कि सोच थी कि इस कौम को हमारे यहाँ आकर घुटने टेकने होंगे साकार नही हो पाये क्योंकि कांग्रेस व वामपंथी यह सोच पाते उससे पहले ही शिक्षा का बीज हमारे समाज में महानायक बो चुके थे ।।
...
सर प्रताप का स्वप्न ही था का रियासत जागीर जमीन सब कुछ चले जाने व परम्परागत सैनिक कार्य छुट जाने के बाद भी राजपूतों ने अपने पुरुषार्थ का लोहा सबको मना दिया और लोकतंत्र राजतन्त्र में भी अपनी अहम भूमिका रखते है ।।
पुरुषार्थी कौम को शिक्षा के मार्ग पर सबसे पहले धकेलने का कार्य इन्हीं महामानव ने किया ।।

जोधपुर-मारवाड़ के महान योद्धा-महानायक महाराजा सर प्रताप सिंह जी की 171वीं जयंती पर हार्दिक शुभकामनाएँ।
महानायक को कोटि कोटि नमन ।।
मारवाड़ के आम राजपूत को शिक्षा के जगत में महाराजा सर प्रताप सिंह जी के प्रयासो से ही सहयोग मिला ।।।

No comments

Post a comment