Wednesday, 19 August 2015

शार्दूल सिंह शेखावत

शार्दूल सिंह शेखावत 


सादूलो जगरामरो सिंहल बुरी बुलाय ।
रामदुहाई फिर गयी ल्हुकती फिरे खुदाय ।।

No comments

Post a comment