Monday, 20 October 2014

रणबंका

रणबंका

वीर धीर गंभीर वर, जीण में खिसकण री न खोड,
जिण सु बाजे जगत में रण-बंका राठौङ !

No comments

Post a comment