Wednesday, 16 July 2014

ठाकुर मोङ सिंह भवानीपुरा

ठाकुर मोङ सिंह भवानीपुरा
भवानीपुरा के जागीरदार ठाकुर मोङ सिंह जी सम्बन्ध में राव गोपालसिंह के निकटस्थ चाचा थे ।
खरवा के क्षत्रियोंचित वातावरण में पले-पोषे मोङ सिंह जी घुङसवारी और शस्त्र संचालन में पूर्ण दक्ष थे ।
अपने पूर्व पुरुषों से विरासत में प्राप्त वीरता, निडरता और साहस आदि गुण उनमें मौजूद थे ।
मोङ सिंह जी गोपाल सिंह जी खरवा के विश्वास पात्र थे । उनके क्रांतिकारी कार्यों मे मोङ सिंह जी सदैव साथ रहे थे !
टाँडगढ़ की नजरबन्दी के बाद फरारी अवस्था में भी वह उनके साथ थे ।
गोपाल सिंह जी के साथ ये किशनगढ़ के पास सलेमाबाद में अंग्रेजी सेना द्वारा घेर लिये गये । इस समय अंग्रेजी सेना में 500 गोरे तथा केप्टन कूपलैण्ड व ग्रिनफिल्ड दो अफसर थे । यहाँ स्वतंत्रय यज्ञ में इन्होंने अपने प्राणों की आहुति दि ।

No comments

Post a comment