Monday, 20 October 2014

वसुन्धरा

वसुन्धरा

वसुन्धरा वीरा रि वधु, वीर तीको ही बिन्द |
रण खेती राजपूत रि, वीर न भूले बाल ||

अथार्थ
धरती वीरों की वधु होती है
और युद्ध क्षत्रिय का व्यवसाय |

No comments

Post a comment