Wednesday, 9 September 2015

खानवा

खानवा युद्ध के लिए कुँवर आयुवानसिंह हुडील कि दो लाइन :-



माथा बाट भरावियो, खनवा खेत सधीर ।
धार तराजू तोलियो, भारत भाग अखीर ।।73।।

खानवा के रण-क्षेत्र में तलवार की तराजू पर मस्तक के बाटों से भारत का भाग्य अन्त में राणा सांगा के हाथों ही तोला गया ।



साभार- हठीलो राजस्थान ।
लेखक - आयुवान सिंह हुडील ।

No comments

Post a comment