Sunday, 13 July 2014

"शौर्य कथा ,

गिरी सुमेल युध के बाद एक कवि ने कहा !

संक्षेप मे इन भावो को व्यक्त करु तो यों कहुंगा !!

"शौर्य कथा, इतिहास भरै,
पर रंग अलग रजपूती का ।"

No comments

Post a comment