Wednesday, 9 September 2015

कटाक्ष

कटाक्ष :-




कटाक्ष की कटारो से, खेल लिए तलवारों से !
पर हमारी हस्ती मिटती नही इन बेचारो से !! 

No comments

Post a comment