Monday, 20 October 2014

मंगल - मरण :-

मंगल - मरण :-

मरणो - मरणो सब करै, मरै सकल नर नार !
मरनै पहली जो मरै, सो मरण बळीहार !!

मरै सरब पण ठाकरां, मरनै भेद बहोत !
सूरा रण खेतां मरै, कायर मोचै मौत !!

मरदां मरणा हक्क है, उबरसी गल्हा !
सा पुरसां रा जीवणा, थोड़ा ही भल्ला !!

मरै चोर, कायर मरै, अंतर मरण अपार !
हुवै सोच घर कायरा, सुहडा जस संसार !!

No comments

Post a comment