Sunday, 24 December 2017

मेड़तीयाँ

मेड़तीयाँ



शेरां उबां किम संचरे, गढ़ बखता री आण !
मेड़तीयो रण पोढसी, जद जासी जोधाण !!

No comments

Post a Comment